दो लड़कों के बीच की विस्वास और अंधविश्वास की कहानी

2
17
Friends आज मैं आपके लिए एक story लेकर आया हु शायद जिसे पढ़ने के बाद आप समझ जाएंगे कि बिस्वास और अंधविश्वास में क्या फर्क होता है ये story इन्ही दो सब्दो पर लागू होता है।
ये कहानी है दो लड़कों की जिसने अपने दिमाग और दिल की बाते सुनकर अपनी अपनी मंजिल चुनते है।
 
एक तरह से देखा जाए तो ये कहानी बहुत ही दिलचप्स है | 
 
ये example है दो लड़कों का जिनकी age है 18 साल और दोनो का एक ही desire है कि मेरे को एक BMW गाड़ी चाहिए।
 
और next 10 साल के अंदर-अंदर चाहिए बस तरीका थोड़ा सा अलग-अलग है। जो पहला लड़का है उसने क्या किया कि एक अपना goal सेट किया। उसने अपने एक diary में लिख दिया। posters लाकर अपने घर मे जगहे-जगहे पर लगा दिया। और 24 घंटो उस गाड़ी के बारे के सोचने लग गया कि ये गाड़ी मुझे चाहिए चाहिए रोज रात को बैठकर वो fill करता कि वो गाड़ी मुझे मिल गयी हैऔर वो तरह-तरह की आबजे निकलता zooo…….और करते करते break मार रहा है मगर actual में नही कर रहा बल्कि imagination कर रहा है fill करने की कोसिस कर रहा है उस गाड़ी को experience करने की कोसिस कर रहा है क्योकि ऐसा बहुत सारे बुक्स में लिखा हुआ है law of atterCtion में भी यही बात लिखी हुई है yes या no 
लेकिन ये सब करने से क्या हो रहा था। पहले उसके लिए ये सब only wish थी एक चाह थी कि ये गाड़ी मुझे मिल जाये। नही भी मिले तो कोई फर्क नही पड़ता है लेकिन अब वो उसके लिए bording desire बन गया अब उसको वो गाड़ी हर हालत में चाहिए ही चाहिए next 10 years में।
 
अब आपलोग में से कुछ लोग सोच रहे होंगे की ।
अच्छा आपलोग में से कितने लोगों ने मेरी Imagination और WhatsApp की success story को read किया है तो आप सोच रहे होंगे कि imagination बाली स्टोरी में भी यही बात कही थी। और आप खुद ही उसके against bol रहे हो | 
 
देखो क्या कहा था मैंने थोड़ी देर पहले की विसवास और अंधविश्वास में एक छोटी सी पतली line की फर्क होता है। इधर कुछ और उधर कुछ और। अगर आप ध्यान से मेरी जितनी भी motivational story को read करोगे ओर आजतक मैंने जो भी कहा उसको देखोगे तो मैंने किस चीज के बारे में बात की है। किसी चीज को हासिल करने के बारे में, गाड़ियों के बारे में, पैसो के बारे में, बंगले के बारे में, या किसी work पर focus करने के बारे में 
 
Work पर focus करने के बारे में किसी चीज के बारे में नही। 
मतलब इस techinque में कोई कमी नही है इस techinque को जो लोग use कर रहे है उनमे गलती है वो गलत तरीके से कर रहे है जिसके कारण problem create हो रही है
अब दूसरे लड़के की बात करते है उसमे ओर इसमे क्या फर्क था दूसरा जो लड़का थाउसका भी desire था कि ये गाड़ी मुझे चाहिए बस एक छोटा सा फर्क था की उसने एक सवाल पूछ लिया अपने आप से की मुझे ये गाड़ी क्यो चाहिए? क्यो चाहिए?
 
ओर ये work न बहुत बोरिंग लगता है कि क्यो चाहिए। सीधा गाड़ी लो न shortcut। फटाफट। लेकिन उसने ऐसा नही किया उसमे गलती नही उसने पूछ लिया। और जब हम सवाल पूछते है तो क्या hota है? जबाब मिलता है….जबाब मिलता है… और उसको मिल गया।
 
जबाब ये था कि मैं ये गाड़ी इसीलिए चाहता हु क्योकि मैं अपने friends को, अपने reletive को, इस पूरी दुनिया को ये prove करना चाहता हु की मैं भी successful हो सकता हु। उसको जबाब मिल गया की मैं ये इसीलिए चाहता हु क्योकि मैं prove करना चाहता हु।
 
फिर उसने एक बड़ा सवाल किया कि मैं क्यो पूरी दुनिया के सामने अपने आप को prove करना चाहता हु।? क्यू करना चाहता हु?
 
तो फिर उसको एक जबाब मिला क्योकि मेरे आसपास में जितने भी लोग है वो सब एक है ओर उसने एक आखिरी सवाल पूछा? ओर जब उसका जबाब मिला ना तो वो हिल गया। और उसके सारे फंडे clear हो गए।
 
की सब वैसा क्यो कर रहे है और उसको उसका जबाब मिला सब ऐसा इसीलिए कर रहे है क्योकि सब ऐसा ही कर रहे है। 
 
उसको समझ मे आ गया है कि यह पर तो रेस लगी हुई है सब भाग रहे है कोई तेज़ भाग रहा है तो कोई dhere भाग रहे है लेकिन किसी लो पता ही नही की वो क्यो भाग रहे है और जइसे ही उसको ये समझ मे आया की और जबाब मिला। लेकिन उसे ये तो पता नही की मैं क्या करने बाल हु लेकिन उसको ये समझ मे आ गया कि मुझे क्या नही करना उसने decide कर लिया उसी time, उसी movement में, की मुझे नही बनना इस track का हिस्सा मुझे नही prove करना कुछ भी मुझे नही चाहिए कोई गाड़ी।
 
अब मैं वो करूँगा जो मेरा heart चाहता है जो मेरे अंदर की आवाज है और जैसे ही उसके अंदर से आवाज आई कि मुझे ये करनी है तो वो जबाब भी उसके अंदर से निकल कर आ गया। की वो 3 साल पहले वो सबसे ज्यादा close इस दुनिया मे अपने father का था अपने papa ka था और दोनों का relation एक बाप और बेटे का कम और friends का ज्यादा था उसके papa की ek छोटी सी handikraft की shop थी dellhi में और वो क्या करते थे कि छोटे छोटे गाओ में jate और वहाँ के कारीगरों से मिलते थे और समान लाकर उसे बेचते थे यही उनका वर्क था।
 
एक दिन उसके पिता कहि जा रहे थे उनका बेटा वही उन्ही के साथ जा रहा था क्योकि उनकी छुट्टियां चल रही थी उस village में एक ढाबे पर बैठ कर खाना खा रहे थे की खाते खाते उनके पिता को suddenly दर्द हुआ लेफ्ट साइड में औऱ दर्द होना सुरु हो गया और उस लड़के ने एक second भी नही लगाया और फटाफट अपने father को लेकर पास के hospital में चला गया वहां के हॉस्पिटल के डॉक्टर थे उन्हीने कहा कि इन्हें बड़े हॉस्पिटल में ले जाओ टाइम नही है but वो बड़ा हॉस्पिटल उस विलेज से3 घंटे की दूरी पर था और जब वहां पहुंचा ओर उसके पिता जी को emergency ward में लेकर गए तो सब ठीक था 
 
10 मिनट्स के बाद डॉक्टर आये और उन्होंने कहा कि we are सॉरी। अगर आप 15 मीन पहले आ जाते तो हम कुछ कर सकते थे। 
 
अब जैसे ही इस लड़के के साथ हुआ था तो विल्कुल सुन हो गया था मुह से एक वर्ड भी बाहर नही आ रहा थ उसको  कुछ समझ ही नही आ रहा था की मैं क्या बोलू क्या सुनु क्या सोचु उसने कुछ सोचा ही नही था और एकदम से हो गया
 
फिर काफी देर होने के बाद almost 15 मीन के बाद उसके अंदर से एक चीख निकली थी उसको कुछ समझ ही नही आ रही थी कि बड़े डॉक्टर से सहारो और बड़े हॉस्पिटल में ही क्यो होते है।
 
छोटे छोटे village में क्यो नही होते? उस टाइम उसको नही समझ मे आया और अब समझ मे आ गया कि मेरे साथ ऐसा क्यों हुआ था जिससे कि मैं एक डॉक्टर बनु ओर छोटे छोटे village के हॉस्पिटलों में काम करू न कि एक गाड़ी खरीदूँ।
 
और उस एक word के सवाल ने पूरी पूरी life का direction ही चेंज कर दिया जहाँ एक तरफ उससे दिन में एक घंटा पढ़ाई नही होती थी और अब वो दिन में 12-12 घंटे पढ़ने लगा।
 
उसके कुछ साल बाद वो एक हार्ट surgen बन गया और बड़े बड़े हॉस्पिटल के डॉक्टर के साथ काम सीखकर विलेज के छोटे छोटे हॉस्पिटल में काम करने लगा। ये थी दूसरे लड़के की story
 
10 साल हो गए है तब दोनो 18 साल के थे लेकिन अब 28 साल के हो चुके है लेकिन क्या दोनो के लाइफ में थोड़ा फर्क होगा एक बार देखते है exjectely क्या फर्क है दोनों की life में।
 
जो पहला लड़का था उसने इस law को पूरे बिस्वास के साथ practice से किया की ये काम करता है और ये करेगा चाहे कुछ भी हो जाये इतने लोग बोल रहे हौ गलत थोड़े ही होंगे पूरी दुनिया बोल रही है कि ये काम करता है उसने किया लेकिन ये बात तो आप भी जानते है कि future किसी के हाथ मे नही है ना।
 
उसको नही मिला उसको वो गाड़ी नही मिली क्या होगा उसके साथ मे? खुस रहेगा? टूट जाएगा पागल हो जाएगा बिखर जाएगा मर जएगा। और समझ ही नही आएगा कि ये क्या हो रहा है मेरे साथ ये है एक sitution दूसरी sitution की उसको bmw गाड़ी तो नही मिली  हौंडा city मिल गयी।
 
अब क्या होगा? 
खुस रहेगा रह नही सकता क्योकि उसने एक goal seting करके वो अपने desire को और बढ़ा लिया अपने अंधविस्वास को इतना बढ़ा लिया कि अब उसको वही गाड़ी चाहिए। और किसी गाड़ी से उसका काम नही चलने बाला जबकि अगर दूसरे angle से देखा जाए तो एक 28 साल के लड़के के लिए जो middle class background से belong करता है और वो अगर अपने पैसो की कमाई की honda city खरीदता है तो वह बहुत बड़ी बात होगी बहुत बड़ी बात होती है 
 
अब तीसरी sitution ये बहुत interinsting है मान लो 10 साल में एक चमत्कार हुआ जिसमे कई काम किये और उसको bmw गाड़ी मिल गयी अब क्या होगा खुस रहेगा संतुस्ट हो जाएगा अपनी लाइफ से बैठ जाएगा कि आह….. मुझे गाड़ी मिल गयी यही तो चाहिए था हो गया काम life बढ़िया हो जाएगी उसकी नही उसका लालच और बढ़ जाएगा उसका अंधबिस्वास और बढ़ जाएगा।
 
वो कहेगा कि अगर law of atteraction को practice की तो ये गाड़ी मिल गयी वो भी 10 सालों में तो मैं अगर अगले 5 साल और practice करू तो एक बड़ा घर क्यो नही मिल सकता मतलब की उसको सबकुछ मिल चुका होंगा लेकिन वो उसको छोड़ करके future में वो किसी और चीज को पकड़ लेगा सबकुछ होने के बाद भी वो future में जियेगा।
 
उसकी हालत बिल्कुल एक rabbit की तरह ही जाएगी जिसके सिर के niche कोई डंडा लगाकर गाजर को टांग दिया हो imagine करो कैसा होगा वो ख़रगोश जो उस गाजर को देख तो सकता है बिल्कुल उसकी आँखों के सामने है उसको खाने के लिए भाग भी सकता है लेकिन कभी खा नही सकता मरते दम तक only भाग सकता है लेकिन खा नही सकता है क्योकि उसकी जो खुसी है उस काम मे नही जो वो कर रहा है बल्कि किसी चीज में है बहार है उसके अंदर नही है।
अब देखते है दूसरे लड़के को ये बहुत interrinsting है की दूसरे लड़के का क्या होगा 10 साल हो गए वो छोटे छोटे विलेज जकर अपना काम कर रहा है और पहली sitution की उसको वो गाड़ी नही मिली bmw जो उसको 10 साल पहले चाहिए थी वो नही मिली अब क्या होगा खुस रहेगा उसकी खुसी किसी गाड़ी में नही है किसी चीज में नही है उसके काम मे है कल जो मिलने बाल है उसमे नही है आज जो कर रहा है उसमें है दूसरी sitution की उसको bmw nhi मिली but honda city तो मिली गयी तो क्या होगा तो भी खुस रहेगा बहुत खुस रहेगा abusulutely क्योकि उसने कुछ मागि ही नही थी bahut कुछ मिल गया।
 
और उसको bmw मिल गयी तो वो खुस रहेगा लेकिन इस बजह से नही की उसको गाड़ी मिल गयी बल्कि इस बजह से की उसको अपने काम से प्यार था और एक सबसे बड़ा फर्क क्या है यहाँ पर दोनो के अंदर सबसे बड़ा फर्क अगर ध्यान से देखोगे ये जो दूसरा लड़का है जिसको गाड़ी मिल गयी जो doctor है और छीन गयी एक साल बाद क्या होगा तभी खुस रहेग लेकिन जो पहला है उसका क्या होगा अरे वो सिर्फ डर में जियेगा। सिर्फ डर में जियेगा जो है उसको खोने का डर और जो मैं चाहता हु उसको न मिलने का डर 24 घंटे सिर्फ डर।
 
तो दोस्तो ये कहानी पढ़ने के बाद आपको कैसा लगा comment करके जरूर बताएं
 
और like & share करना ना भूले।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here